Sunday, 10 June 2012

क्या करू ?

*********************************                                              
कोई तो बताये मुझे मै क्या करू ?
*********************************


रम जाऊ इन लड़कपन के दिनों में
या ,
बचपन के सुनहरे पल याद करू ?


********************
चेहरे पे नकली हंसी सजाऊ
या ,
वो मासूम खिलखिलाहट याद करू ?




*********************************
कोई तो बताये मुझे मै क्या करू ?
*********************************




मान लू मै दुनिया के हर फैसले
या,
उन पर बेबाक सवाल करू ?


*******************


रिश्ते निभाऊ
या,
रिश्ते निभाने वालो  से प्यार करू ?




*********************************
कोई तो बताये मुझे मै क्या करू ?
*********************************


बातो की बात बनाऊ
या,
खुल के इज़हार करू ?


*****************
किसी की तरह बनने की चाहत करू
या,
अपनी चाहतो का मुकाम बनाऊ ?




*********************************
कोई तो बताये मुझे मै क्या करू ?
*********************************


दुसरो की ख़ुशी के लिए उनकी सुनू ..
या,
अपनी ख़ुशी के लिए अपनी  सुनू ?


***********************


जवाब बनू  या सवाल बनू   ?
सब्र बनू  या कब्र बनू  ?
इंसान बनू  या  भगवान बनू ?
आम बनू  या  महान बनू ?


******************


बड़ते जाते हैं सवाल , कुछ ही के मिल पाते हैं जवाब
फिर समझोते की समस्या खड़ी  हो जाती हैं की ,

किन सवालों को छुपाऊ ,
किन सवालों को पेश करू ?




*********************************
कोई तो बताये मुझे मै क्या करू ?
*********************************


                                                    (अर्चना चतुर्वेदी )