Posts

Showing posts from July, 2015

आखिर किसके हैं बजरंग बलि ?

Image
ड़े दिनों बाद एक ऐसी फिल्म पर्दे पर आई है जिसने दो देशों की ही नहीं बल्कि दो अलग-अलग धर्मों के बीच की दूरियां भी कम की है। जी हां मैं “बजरंगी भाईजान” फिल्म की ही बात कर रही हूँ। लेकिन एक सवाल वो दर्शकों के मन में जरूर पैदा कर गई है.. कि ये बजरंग बलि जी है किसके ? हिन्दूओं के या मुसलमान लोगों के। ये बात अब बहस का मुद्दा बनती जा रही है। सच्चाई तो ये है कि इन दोनों को ही इसका जवाब पता है लेकिन डर और अहम के बीच बस ये बयां नहीं कर पाते। और जो बयां करते हैं बेचारे वह फंस जाते हैं। ऐसा ही कुछ हुआ लकी के साथ...
फिल्म खत्म होने के बाद जब लकी सिनेमा हॉल से बाहर निकल रहा था तो कुछ लोग बजरंगी बलि जीका धर्म डिसाइड करने में लगे हुए थे। यही कुछ 12 से 13 लोग थे। कुछ पढ़े-लिखे लड़के, लड़कियां और कुछ बुर्जुग थे। बड़ी दुविधा में थे बेचारे। लकी ने सोचा चलो भाई इस चर्चा का हिस्सा ही बन लिया जाए। और ये भी पता कर लिया जाए कि बजरंग बलि जी आखिर है किसके?
चर्चा का मुद्दा भी गरम था और महौल भी। ऐसा लग रहा था मानो संसद चल रही हो। पक्ष-विपक्ष दोनों ही फुल जोश में थे। इसी बीच किसी महान ने धर्मवाद की हवा छोड़ दी। फिर…

काश!

Image
(कुछ दूर जो चलते तुम, कुछ और समझ पाता
कुछ देर ठहरते तुम तो कुछ और भी कह पाता)
यही सोचकर कि आज नहीं कल, पर कब 
तुमसे अपने दिल की बात कह पाता।
पल दिन बन गए और दिन महीने
कई साल तो यों ही बीत गए।
पर बात दिल की जुबां पर न ला पाया
कमबख्त इस इश्क ने 
न जाने कौन सा ताला लगाया।
पर अब बात इजहार की नहीं एहसास की है
गर वो समझ गए हमारे जज्बातों को 
तो समझूँगा 
इस इंतजार का मैंने वाकई मीठा फल पाया।⁠⁠⁠⁠

- अर्चना चतुर्वेदी

बस एक रात की बात

Image
सपने देखना किसे अच्छा नहीं लगता ? लेकिन उन्हें पूरा करना हर किसी के बस की बात नहीं होती। पर कोशिश हर कोई करता है। बस इसके लिए कोई सही राह चुनता है तो कोई गलत रास्ते पर चल देता है। लेकिन मंजिल किसे मिलनी ही ये उनका संघर्ष ही बताता है। ऐसे ही दो सपने पल रहे थे गाजियाबाद शहर में।
प्रवीण और रश्मी, अब तक दोनों एक दूसरे से अन्जान काम की तलाश में भटक रहे थे। प्रवीण एक पढ़े-लिखे परिवार से था। मां सरकारी स्कूल में टीचर थी और पिता जी बैंक कर्मचारी। परिवार में सिर्फ तीन ही प्राणी थे। प्रवीण का सपना था कि वो एक फाइव स्टार होटल का मैनेजर बन जाए और फिर धीरे-धीरे वो एक खुद का एक होटल खोल ले। बस इसी ख्वाहिश को संजोए वो दिन-रात नौकरी तलाशने में लगा हुआ था।
वहां दूसरी तरफ रश्मी भी कई दफ्तरों के चक्कर काट चुकी थी। लेकिन कहीं भी उसे आशा किरण न दिखी। रश्मी थी तो बनारस की लेकिन गाजियाबाद में अपनी दीदी और जीजा जी के साथ रहती थी। वह ट्रेफिक पुलिस इंस्पेक्टर थे। शादी को 10 साल हो गए थे। लेकिन अब तक कोई औलाद न थी। जिसकी वजह से वह आए दिन नशा करते और देर रात घर आया करते। रश्मी को अब यह सब अजीब नहीं लगता था। वह उनक…