बेरंग बचपन

                                            बेरंग बचपन 
जब बैठती हू अकेले में तो एक मंजर याद  आता है,
वह मंजर ही था या ...........सच ये समझ नहीं  आता है |
अगर ये सच है ... तो शर्मसार है मानवता  ,
है एक मानव और जानवर में भी फर्क ...
तो ये फर्क समझ नहीं आता है |




देखा था मैंने दो बच्चो को आपस में लड़ते हुए ,
इस मायूस जिन्दगी में अपनी हंसी से रंग भरते हुए |
न तो थे बदन पे कपड़े और न ही था सर पर किसी का हाथ ,
फिर भी चल पड़े थे इस अंजान दुनिया में एक - दूजे के साथ |
बच्चे तो होते है खुदा का रूप ... न होती है उनमे कोई खोट ,
उन्हें न पता था की ये जालिम दुनिया देगी उन्हें हर कदम पर एक चोट |
"क्यों गरीबी होती है इतना बड़ा अभिशाप ,
तो ये अभिशाप समझ नहीं आता है |"
है एक मानव और जानवर में भी फर्क ...
तो ये फर्क समझ नहीं आता है |

जिस उम्र में होने चाहिए थे उनके हाथो में खिलौने ,
फिर किसने छीन लिए उनके ये सुंदर सपने सलौने | 
कोई छोड़ देता है इन्हें मंदिरों की सिढियो पर , 
तो कोई फेंक देता है अपनी बदनसीबी समझकर |
"क्यों कोई समझता ही नही ये है इश्वेर का ही अंश ,
ये सच समझ नहीं आता है |"

है एक मानव और जानवर में भी फर्क ...
तो ये फर्क समझ नहीं आता है |

चाहते है वो हमसे बस कुछ  प्यारी सी मीठी सी पुचकारिया, 
बदले में फिर क्यों देते है हम उन्हें सिर्फ गालिया ही गालिया |
हर भाषण में एक नेता एक वक्ता ये कहता है ........
बाल मजदूरी है अपराध इसे रोको |
"फिर क्यों उन्ही के घरो में मिल जाते है 
अक्सर ये बदनसीब ,ये सच समझ नहीं आता है "
है एक मानव और जानवर में भी फर्क ...
तो ये फर्क समझ नहीं आता है |
              
 आखिर क्यों?  हम इस जिन्दगी में दोहरे रूप रखते है
 एक पल देवता तो दूजे पल हैवान  क्यों  बनते है ?

"ऐसा भी होता है परिवर्तन तो यह परिवर्तन समझ नै आता है |"
 
है एक मानव और जानवर में भी फर्क ...
तो ये फर्क समझ नहीं आता है |
 ये भी है किसी बगिया की कालिया 
                 इन्हें फूल बन्ने से पहले मत तोड़ो ,
यही है हमारे देश का भविष्य 
                 इन्हें अंधकार में तो मत धकेलो|


                                       

Comments

  1. म श्री एडम्स केविन, Aiico बीमा ऋण ऋण कम्पनी को एक प्रतिनिधि हुँ तपाईं व्यापार को लागि व्यक्तिगत ऋण चाहिन्छ? तुरुन्तै आफ्नो ऋण स्थानान्तरण दस्तावेज संग अगाडी बढन adams.credi@gmail.com: हामी तपाईं रुचि हो भने यो इमेल मा हामीलाई सम्पर्क, 3% ब्याज दर मा ऋण दिन

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी डायरी की शायरी

काहे की शर्म.. बिंदास बोलें हिंदी