वादों का जंजाल

इंसानों की इस दुनिया में ,हैवान नज़र आ जाता है
क्यों ? हर जगह अब हमको एक वाद नज़र आ जाता है ।

धरती माँ की कोख से जन्म लेकर मिला था धर्म इंसानियत ,
एक - दूजे पर मरना है बस अब ये है मात्र  कहावत 
अब  इंसानियत जैसे धर्मो में भी.....
"धर्मवाद " नजर आ जाता है ।
क्यों ? हर जगह अब हमको एक वाद नज़र आ जाता है ।

जानी थी नस्ले अभी तक ,पशुओ में ही होती है
रंग - रूप की  कहानिया आज भी हकीकत होती है ।
अब हर व्यक्ति के मन में .....
"नस्लवाद " नजर आ जाता है ।
क्यों ? हर जगह अब हमको एक वाद नज़र आ जाता है ।

भाषा के सारे बंधन तोड़ , दिल की बोली ही दिखती थी 
हिंदी , उर्दू  और सभी मिठास दिलो में घोलती थी ।
अब इन्ही बोलो में हमे.......
"भाषावाद"  नजर आ जाता है ।
क्यों ? हर जगह अब हमको एक वाद नज़र आ जाता है ।

इश्वेर के मन में न कोई छोटा न बड़ा है ,
पर आज मनुष्यों ने इस कथन को असत्य करके छोड़ा है ।
अब अक्सर इस समाज में ......
"जातिवाद " नजर आ जाता है ।
क्यों ? हर जगह अब हमको एक वाद नज़र आ जाता है ।

जूझ रहा है युवा आज का इस प्रतियोगिता के दौर से ,
नौकरिया मिलती है सिर्फ रिश्तेदारों को अधिकारियो के ओर से ।
अब योग्य व्यक्ति के दफ्तर में .....
"भाई - भतीजावाद " नजर आ जाता है ।
क्यों ? हर जगह अब हमको एक वाद नज़र आ जाता है ।

"हिंदी है हम वतन है हिंदुस्तान है हमारा "
कहते है कुछ लोग अब महाराष्ट्र और तेलंगाना है हमारा ।
अब गाँधी , नहरू जी की मात्रभूमि पर ............
" क्षेत्रवाद " नजर आ जाता है ।
क्यों ? हर जगह अब हमको एक वाद नज़र आ जाता है ।
 
इन वादों के जंजाल में न दीखता साम्यवाद है ....
तो आओ हम सब  मिलकर ......
वादों के इस चंगुल से मानवता को छुडाये,
मानवतावाद के दीपक से हम  अपना भारत महान बनाये ।

      "जय हिंद जय भारत "








Comments

  1. म श्री एडम्स केविन, Aiico बीमा ऋण ऋण कम्पनी को एक प्रतिनिधि हुँ तपाईं व्यापार को लागि व्यक्तिगत ऋण चाहिन्छ? तुरुन्तै आफ्नो ऋण स्थानान्तरण दस्तावेज संग अगाडी बढन adams.credi@gmail.com: हामी तपाईं रुचि हो भने यो इमेल मा हामीलाई सम्पर्क, 3% ब्याज दर मा ऋण दिन

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी डायरी की शायरी

काहे की शर्म.. बिंदास बोलें हिंदी