मतदान है जिस दिन .....

घुमो न पार्को में , न मॉलो में उस दिन 
देश बदलने का निर्णय लेना है हमे जिस दिन 

करो न बेकार अपने अधिकार को तुम 
देश की किस्मत लिखनी है जिस दिन ....

गर्व करो अगर मतदाता हो तुम 
सही निर्णय की पहचान तुम्हे देनी है जिस दिन 

सोये हुए हो तो जागो जरा तुम ..
जागे हुए हो तो औरो को जगाओ जरा तुम .....

पहल करोगे तो सुरुवात होगी 
वरना कहने से बाते और बेकार होगी ...

तो निकलना ही होगा घरो से उस दिन 
 देश बदलने का निर्णय लेना है हमे जिस दिन



Comments

  1. म श्री एडम्स केविन, Aiico बीमा ऋण ऋण कम्पनी को एक प्रतिनिधि हुँ तपाईं व्यापार को लागि व्यक्तिगत ऋण चाहिन्छ? तुरुन्तै आफ्नो ऋण स्थानान्तरण दस्तावेज संग अगाडी बढन adams.credi@gmail.com: हामी तपाईं रुचि हो भने यो इमेल मा हामीलाई सम्पर्क, 3% ब्याज दर मा ऋण दिन

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी डायरी की शायरी

काहे की शर्म.. बिंदास बोलें हिंदी